सर्दियों में मुंह से भाप क्यों निकलती है? Why Steam Comes Out Of The Mouth In Winter in hindi?

दोस्तो क्या आप ने कभी सोचा है, सर्दियों में मुंह से भाप क्यों निकलती है। अगर टेक्निकली देखा जाए तो यह भाप हर सीजन में निकली है लेकिन यह सर्दियों में दिखाई देती है। एक काम करते हैं हम खुद ट्राई करते हैं। अगर आप यह आर्टिकल मोबाइल में देख रहे हो, तो मोबाइल को अपने मुंह के पास ले आओ और अगर मोबाइल में नहीं देख रहे तो अपने हाथ को मुंह के पास ले आओ। और सास को मुंह से अपने हाथ या मोबाइल पर छोड़ो। यकीनन मोबाइल की स्क्रीन या हाथ गिरी हो गया होगा। अगर ये ट्राय दोपहर में कर रहे हो या फिर गर्मी में कर रहे हो। तो यह पानी अपने आप जल्दी से सूख जाएगा। ये जो पानी है ना वही सर्दियों में निकलने वाली भाप है। तो अब आखिर य भाप सर्दियों में ही क्यों दिखती है आइए समझते हैं।
 

तो होता यूं है कि हम जब सांस लेकर वापस छोड़ते हैं। तब सिर्फ कार्बन डाइऑक्साइड नहीं बल्कि उसके साथ जलवाष्प स्वरूप पानी भी बाहर आता है।

जरूर पढ़े: क्या हो अगर ग्रेविटी खत्म हो जाए

अब ये जलवाष्प क्या बला है यह भी आगे देखते हैं।फिलहाल देखते हैं कि आखिर यह भाप सर्दियों में क्यों दिखती है।

तो सर्दियों में पूरा वातावरण ठंडा होता है। और जब हम सांस छोड़ते हैं तब जलवाष्प के स्वरूप में आ रहा पानी ठंडी हवा में मिलते ही छोटी-छोटी बूंदो के स्वरूप में बदल जाता है। एसा गर्मियों में नहीं होता क्योंकि गर्मियों में वह पानी जलवाष्प के स्वरूप में ही रह जाता है। और वो परिवर्तित हो के छोटे-छोटे बुडो का स्वरूप नहीं ले पाता है। इसी कारण यह भाप हमें गर्मियों में नहीं दिखती।

तो प्रश्न है यह आता है कि यह जलवाष्प क्या है। तो जलवाष्प पानी का भाप मतलब की evaporate स्वरूप है। जहां पर पानी Steam स्वरूप में होता है, जिसे हम देख नहीं सकते। जब यह जलवाष्प को ठंड मिलती है, तब वो आपस में संगठित होकर पानी के स्वरूप में आ जाती है।

इस जलवाष्प को पानी के स्वरूप में आते आपने देखा है। लेकिन कभी नोटिस नहीं किया। आपने कभी ठंडी बोतल या शरबत के ग्लास पर बाहर की साइड पानी देखा है।

हां मैं इसी पानी की बात कर रहा हूं। मतलब समझे दया!

जलवाष्प हमारे पूरे वातावरण में है। और जब ठंड मिलती है। इस ठंड की वजह से आसपास के वातावरण में रहा जलवाष्प पानी के स्वरूप में ग्लास के ऊपर चिपक गया। और इसका बेस्ट एग्जांपल है फोग।

वातावरण में रहा जलवाष्प ठंड के कारण आपस में संगठित कर छोटे-छोटे पानी के बूंदो का स्वरूप ले लेती है। और पूरे वातावरण में कोहरा ही कोहरा दिखाई देता है।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ