Illuminati क्या है? क्या वो आज भी अस्तित्व है?


>>> what is Illuminati? इल्लुमिनाति क्या है।


तो यार इलुमिनाटी एक संस्था है। जीस की स्थापना एडम वॉइसहोप्ट ने जर्मनी में 1 मई 1776 को की थी ।जो पूरी दुनिया में वन वर्ल्ड ऑर्डर लाना चाहती थी।यानी एक ऐसी दुनिया जो धर्म से या लोगोंको बाट के ना चले बल्कि एक ही गवर्नमेंट द्वारा चलाई जाए। यह दुनिया इनलाइटेंड यानी कि जागरूक लोगों की हो। जो इंसानियत की तरक्की करा सके। इसी मकसद को पूरा करने की कोशिश में इल्युमिनाति बहुत से अमीर और प्रभावशाली लोगों के साथ अपना कांटेक्ट बढ़ाने लगा। ऐसे ही चलते इलुमिनाटी बहुत जल्दी फैलने लगा। पर उस समय Jesuits यानी कि हार्डकोर क्रिश्चियनस और missionarys लोगों पर अपना नियंत्रण जमाते थे, अंधविश्वास को बढ़ावा देते थे और विज्ञान और क्रिटिकल थिंकिंग को दबाते थे। पर इलुमिनाटी तो विज्ञान और क्रिटिकल थिंकिंग को बढाता था। इसलिए वह शैतान था। मतलब कि अगर उस समय कोई धर्म पर यकीन नहीं करता था तो उसे यही माना जाता था कि वो शैतान की पूजा करता है। क्योंकि उस समय धर्म के आगे कोई एक प्रश्न भी खड़ा नहीं कर सकता था। उस समय इलुमिनाटी कुछ नयी ही सोच लेकर आया था। जिस से उस समय चल रहा है धर्म पर प्रश्न खड़ा कर दिया था। तो लोग तो उसे बंद कर वाएंगे ही। और करवाया भी। और इस पर बहुत सारी कहानियां भी बना दी।

और ऊपर से लोगों को इसके बारे में कुछ ज्यादा जानकारी भी नहीं थी। या बहुत ही कम जानकारी थी , ऐसे संगठनों के बारे में | लोगों के मन में बहुत सी शंकायें तो होगी ही, जो उनके धर्म पर ही प्रश्न खड़ा कर दिया है ।

>>> इलुमिनाटी पर लोगों की सोच। People's thinking on the Illuminati.


लोग मानते हैं कि इल्लुमिनात के सदस्य पूरी दुनिया में हैं । इसके सदस्यों में राजनेता , तकनीकी विशेषज्ञ , खेल जगत के लोग , लेखक , वैज्ञानिक , मीडिया , फिल्म , उद्योगपति , बुद्धिजीवी , सेलेब्रिटी आदि शामिल हैं । इल्लुमिनाती एक गुप्त संगठन है , इसका मुख्य उद्देशय पूरी दुनिया पर राज करना है । इल्लुमिनाती एक एसे ताक़तवर लोगों को ग्रुप है जो पूरे विश्व में अपना एक साम्राज्य स्थापित करना चाहते है। कई लोग एसा भी मान ते है की दुनिया में हो रही सभी घटनाओं के पीछे Indirect रूप से इल्लुमिनाती शमिल होता है। कुछ लोग तो ये भी कहते है कि वर्तमान में कई देशों की सरकारों के निर्णय में इल्लुमिनाती अस्पष्ट रूप से शामिल होता है। दुनिया में आज तक जितने भी युद्ध हुए हैं उनके पीछे का हाथ इल्लुमिनाती है एसा भी कई लोग मानते है। यहां तक कि लोग माना जाता है की कई देशों के बंटवारे के पीछे का हाथ भी इल्लुमिनाती है। इल्लुमिनाती के अनुसार दुनिया पर राज करना है तो तेज दिमाग के साथ साथ दो ओर जरुरी ताकतों का होना जरूर है, वो है ' हिंसा और पैसा। इसलिए इल्युमिनाटी उसने अपने मुख्य हथियारों के रूप में इन का इस्तमाल करता है | इल्लुमिनाती अपनी कोई भी योजना छोटी अवधि ओर अचानक नहीं बनाता, बल्कि भविष्य की होने वाली संभावनाओं को ध्यान में लेते हुए ही, बनता है। इल्लूमिनाती के इसी गुण के कारण आज तक लोग इस कि ताकत का आभास नहीं कर पाए है। ओर तो ओर इस में ऐसे ही लोगों को शामिल किया जाता है जो विशिष्ट योजना बनाकर इलुगिनाती के प्रचार प्रसार के लिए काग कर सके। इल्लुमिनाती ऐसे लोगों पैसा देकर पीछे से पॉलिसी मेकर कि तरह काम करता है। इल्लुमिनाती का प्रतीक यानी कि Symbol त्रिकोणीय आकृति है जो कि पिरामिड जैस है उस पर बीच में एक आँख है । यही चिन्ह अनेरिकन डॉलर पर भी मोजूद है । मतलबी, यार कुछ भी...

दरअसल यह आंख फ्री मेंसनली दल का था। इसके पीछे का मकसद यह था कि इंसानियत को अपनाओ क्योंकि भगवान की आंखे आपको देख रही है।

>>> क्या अभी इल्युमिनाटी अस्तित्व है? Does Illuminati Exist Now?


खैर पर अब यह सवाल खड़ा होता है कि, क्या अभी इलुमिनाटी का अस्तित्व है। क्या वो अभी भी लोगों को और इस दुनिया को कंट्रोल करता है। तो यार कंट्रोल तो वो पहले भी नहीं करता था और आज भी नहीं करता। और रही बात अस्तित्व की तो वो कबका बंद हो चुका है। अगर अब जाकर आप इलुमिनाटी की वेबसाइट पर लॉगिन करोगे तो, आपको कुछ भी नहीं मिलने वाला यह लोग अब सिर्फ प्रोडक्ट बेच ते हैं जैसे कि स्टाइलिश t-shirt या फिर ऐसे ही और वस्तुओं। खुफिया संस्था जो इंसानियत को आगे बढ़ना चाहती थी वह तो कबकी विलुप्त भीहो गई है। जस्ट क्योंकि क्रिश्चियंस वो समय कितने लीबरर नहीं थे जिसने वह आज हैं, और उन्हें लोगों की जिंदगीओ को कंट्रोल करना अच्छा लगता था, उन्हें इस से पावर मिलती थी।

लेकिन मेरा मानना ये है कि इलुमिनाटी जेसी चिजो मे विश्वास मत करो अपनी अच्छाइयों से सीख लेकर अपनी खुद की एक विचारधारा बनाओ जो आपकी पर्सनालिटी का एक हिस्सा बनेगी। हर दम हर किसी से सीखते रहना और विकसित होते रहना किसी के द्वारा बेवकूफ बनने से अपने आप को बचाओ आज धर्म में भी कुछ लालची लोग किसी दूसरे धर्म के इंसान का परिवर्तन करने के लिए पैसे देते हैं, और उन फॉलोवर्ष के बल पर करोड़ों की फंडिंग उठाते हैं। सब कुछ बिजनेस है आज के जमाने में पैसा सब कुछ चलाता है। क्योंकि लोग पैसा और इमोशन से कंट्रोल होते हैं। यह है असल इलुमिनाटी। आप लोगों से अलग बनो आप नॉलेज हासिल करो और सही चोहिसि लो अपनी जिंदगी में।  

और हा इलुमिनाटी के बारे मे एक और बात मैंने कही पड़ा था कि इलुमिनाटी की बुक में कुछ कुछचीजें हैं जो कहती है कि इलुमिनाटी आपका दिमाग कंट्रोल करता है। 

आप के पैदा होने से पहले आप पहले से ही उसका एक भाग हो Extra यार यह सुनकर मुझे इतना अजीब लगा था। लेकिन लोग विश्वास कर लेते हैं। क्या यार मुझे तो ये समझ मै नहीं आता कि धर्म की किताब में भी कितने सारे चमत्कारों का वर्णन किया है। क्या आज अगर मैं कहूं चमत्कार आज कोई करता है। तो क्या मेरी बात मान लोगे, आप कहोगे यह पागल हो गया है। या हमैं बेवकूफ बना रहा है। तो आप इस चीज पर के से विश्वास कर लेते हो। तो ये दुसरी कड़वी सच्चाई है, कि चमत्कार सबसे ज्यादा बिकता है। इसलिए किताबो को मजेदार बनाने के लिए यह सब लिखना पड़ता है। ओर एक कॉमन सेंस की बात अगर वह किताब सीक्रेट सोसायटी कि होती तो क्या वो किताब अमेजॉन पर $9 में बिकती। कोई बेवकूफ ही ऐसे सिकरेट सोसायटी की कीताब ऑनलाइन बेचेगा। 

दर्शल इलुमिनाटी का एक मकसद था के इंसानों को धार्मिक या किसी और रूप में बांटा न जाए। पर जिसे धार्मिक अधिकारियों ने देखा और बना दिया इलुमिनाटी को शैतान। 

और अगर आपको लगता है कि, यह जैफ बेजॉस, बिल गेस्ट या और सभी इलुमिनाती के दम पर चलते हैं। तो यार यह सब अपने मन से निकाल दो क्योंकि आज के जमाने में इलुमिनाटी ब्लूमिनाटीकुछ नहीं चलता, सब कुछ अपनी मेहनत और परिश्रम से मिलता है। और यह सब लोग अपनी मेहनत और अपनी सोच से चले हैं। तो यार किसी की बातों पर यकीन मत करो और यह सोचो कि आप इंसानियत के विकास के लिए क्या कर सकते हो, तो आप हंड्रेड परसेंट सक्सेस हो गे। क्युकी ये सभी सक्सेस लोग आपको पैसे के बदले आपको कुछ वैल्यू देते थे, इसलिए वह सक्सेस हो सके हैं। नहीं तो कौन पूछेगा कौन जैफ बेजॉस और कौन बिल गेस्ट। मतलब की अब जो कुछ काम करते हो मैं अपना 110% दो अब जरूर सक्सेस होगे यह खुद बिल गेस्ट का कहना है।आपको किसी इलुमिनाटी बिलुमीनाटी को ज्वाइन करने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ