खतरा टला: हिंद महासागर में गिर चुका है। चीन का बेकाबू रॉकेट का मलबा, वायुमंडल में प्रवेश करते ही नष्ट कर दिया गया था रॉकेट का बड़ा हिस्सा

खतरा टला: हिंद महासागर में गिर चुका है। चीन का बेकाबू रॉकेट का मलबा, वायुमंडल में प्रवेश करते ही नष्ट कर दिया गया था रॉकेट का बड़ा हिस्सा

पिछले हप्ते लॉन्च किया गया चीन का रॉकेट का मलबा आज हिंद महासागर में गिर चुके है। जिस कि चेतावनी अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने कुछ दिन पहले ही दी थी। हालांकि वायु मंडल में प्रवेश करते ही रॉकेट के बड़े हिस्से नस्ट हो गए थे। फिलहाल हमारे पास इसके गिरने से किसी नुकसान की जानकारी नहीं है
इस रॉकेट का नाम Long March 5B Y2 Rocket था जो, 100 फुट लंबा और 16 फुट चौड़ा था। अमरीका के स्पेस कोर्स के डेटा के मुताबिक ये रॉकेट करीब 18 हजार मीटर प्रति घंटे किरफ्तर से धरती पर गिर रहा था। इस रॉकेट कि स्पेस में गति करी 25,490 किलोमीटर प्रति घंटा यानी के 7.20 किलोमीटर प्रति सेकेंड कि रफ्तार से पृथ्वी का चकर लगा रहा था। 

दरसअल चीन अपना स्पेस स्टेशन बना रहा है। इस का मा तियानहे जी का हिन्दी मतलब स्वार्गिक सद्भावना होता है। इस स्पेस स्टेशन को बना ने केलिए चीन को करीब 11 बार एसे रोकट्स भेज ने है जिस में से ये पहेला रॉकेट था। चीन का कहे ना है की वो 2022 तक स्पेस स्टेशन का काम पूरा कर लेंगे।

पहले इस रॉकेट को नियंत्रित तरीके से समुद्र में गिराने का प्लान था लेकिन बाद में उनका रॉकेट पर से कंट्रोल छूट गया था जिस से पिछले साल जैसा हादसा दुबारा होनेकी सकता बढ़ गई थी।

अगर आपको पिछले साल का पता ना हो तो बता दे पिछले साल भी चीन का एक रॉकेट मई महीने में पश्चिमी अफ्रीका और अटलांटिक महासागर में गिरा था। Social media image

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ