रामसेतु कैसे बना? How did Rama Setu become? || Ram setu vs science vs Adam's bridge.


 आखिर रामसेतु कैसे बना? How did Rama Setu become? || Ram setu vs science vs Adam's bridge.

आज के आर्टिकल शुरुआत करते हैं रामायण के उस सीन से, जहां भगवान राम समुद्र से गुस्से हो गए हैं कई दिनों के प्रार्थना के बावजूद भी संबंध ने भगवान राम को मार्ग नहीं दिया, जिस से भगवान राम गुस्से में आकर पूरे समंदर को नष्ट करने का निर्णय ले लिया। भगवान राम के क्रोध से भयभीत होकर समंदर भगवान राम के समक्ष प्रकट हो गया‌। और उसने बताया कि, हे स्वामी आपकी सेना में नल नामक एक वानर है जो साक्षात विश्वकर्मा का पुत्र है और यह अपने पिता की तरह सिर्फ कला में माहिर है उनके नेतृत्व में एक पुल बधवाइए जिसे मैं उससे मे अपने ऊपर धारण करूंगा और बस इतना बता कर वह समंदर वापिस अदृश्य हो गया।



वानर नल ने समुद्र की बात सुनकर श्री राम से कहा, है, प्रभू मैं विश्वकर्मा का औरस पुत्र हूँ, और गुण मेेेे भी उन्हीं के समान हूँ। मैं महासागर पर पुल बाँधने में समर्थ हूँ इसलिये मैं समुद्र पर सेतु का निर्माण करूँगा। मैं बिना पूछे आप लोगों को अपने गुणों को नहीं बता सकता था इसी लिए अब तक चुप था, ओर मे पुल का काम आज ही सरु करदुगा। और फिर भगवान राम के आदेश से लाखो वानर पुल बना ने के काम में लग गए। बस कुछ ही दिनों में 100 योजन लंबा पुल बांध दिया। और अगर आप को योजन का पता ना हो तो एक योजन मतलब करीब 8 से 12 किलोमीटर तक होता है।

तो येतो हुई हिन्दू mythology के हिसाब से राम सेतु कि कहानी यहां पे साइनस क्या कहेता है। अगर आप तमिनाडु ओर श्रीलका के बीच के सैटेलाइट इमेज देखो तो आप को ये ब्रिज टाइप कुछ structure दिखेगा। जिसे देख के कई लोग ये मान ते है की ये mythological राम सेतु है जो आज भी मौजूद है। लेकिन archaeological survey of India कि एक रिपोर्टर मे बताया गया है कि यहां पे कोई scientific evidence नहीं है कि यहां पे कोई राम सेतु exist करता था। NASA के द्वारा खेची गई इमेज को कई लोगो ने राम सेतु ही समझा, क्यों कि ये इंडिया और श्रीलंका के बीच में है। इस कलेम को ग़लत बता ते हुवे NASA के spokesperson ने कहा satellite से ली गई फोटो से आप उस structure की age नहीं बता सकते। और नाही उस के geological structure के बारे में determine कर सकते हो। तो ये बात करना कि इसे किसी इंसान ने इसे बनाया है इस का proof हमे सैटेलाइट इमेज से मिल ही नहीं सकता। और एक और nasa के spokesperson ने कहा कि ये रहस्यमई पुल और कुछ नहीं बस 30 KM लम्बी sandbank की एक chain है। जिसे नेचर ने खुद ही बनाया है। sandbank मतलब एक विशेष area जो समंदर या नदियों के बीच में बहुत सरी sand या sediment इकट्ठे होने से form होता है। Nasa के spokesman के अनुसार जिसे हम राम सेतु कहते है वो तो बस 30 KM लम्बी sandbank की एक chain है, जिसे Adam's bridge भी कहा जाता है। ओर nasa इस तरह के कई सारे sandbanks के photos सालों से लेता आ रहा है, जिसे हम India में राम सेतु के नाम से जानते है उसे पूरी दुनिया में Adam's bridge के नाम से जाना जाता है। ओर ये Adam's bridge जिस ने दो landmass को जोड़ के रखा है एसे कई सारे landmass दुनिया के कई सारे हिसो मे देख ने को मिलते है। ओर इस तरह के bridge जिस ने दो landmass को जोड़ के रखा है उसे कहते है tombolo.

जरूर पढ़ें: क्या आप artificial light में पौधे उगा सकते हैं? 

तो अब ये tombolo बनता कैसे है? What is a tombolo and how is it made?

ये विडियो जरूर देखे: animation में समझ ने केलिए यहां पर click करे: click here

तो समंदर में दो तरह को waves होती है constructive और destructive, constructive यानी के swash strong होगा ओर destructive यानी के backwash strong होगा। Swash यानी के पानी किनारे का तरफ आना ओर backwash यानी के पानी का वापस जाना।

तो मानलो wind की direction इस साइड से है। ओर जैसे ही swash होगा यानी कि पानी किनारे कि ओर आयेगा जो wind के कारण थोड़ा इस तरह से होगा। ओर जब backwash होगा तो वो भी थोड़ा सा इस तरह से होगा, ओर अगर destructive waves होगी तो backwash ज्यादा होगा। जिस से किनारे से sediments लेके आयेगा। ओर जैसे ही दुबारा लहर आयेगी ओर वो constructive wave होगी तो वो sediments वापिस किनारे कि ओर आ जायेगे ओर एसे ही zig zag pattern continue रहेगी। जिस से ocean में इस तरह का sand spit create हो जाएगा। ओर अगर wind कि डायरेक्शन इस तरफ से हो जाती है तो इस तरह का hook भी create हो सकता है। पर design चाहे केसा भी बने पर ओवरऑल इस स्ट्रक्चर को sand spit ही कहते है। पर अगर ये sand spit किसी मैनलैंड को आईलैंड से कनेक्ट कर दें तो उसे tombolo कहते है। और इस तरह के टॉमबोलो दुनिया भर में कहीं जगह पर मौजूद हैं। Adam's bridge यानी के राम सेतु भी इसी का बेस्ट एग्जाम्पल है, जो बाद में समंदर के बदलाव के कारण टूट गया होगा। अब वहां sandbank कि चेन ही बची है।

इस के अलावा ये भी कहा जाता है राम सेतु में जिस पत्थर का इस्तमाल किया गया था वो पानी में तैर ते थे। but according to science. कोई पदार्थ तब ही पानी में तैर सकता है जब उसकी स्पेसिफिक ग्रेविटी पानी की स्पेसिफिक ग्रेविटी से कम होगी। पर पत्थर की स्पेसिफिक ग्रेविटी पानी की स्पेसिफिक ग्रेविटी से ज्यादा ही होती है। तो फिर आखिर यह कैसे पॉसिबल हुआ?
 
जरूर पढ़ें: हाथों में लकीरें क्यों होती है? 

आख़िर पत्थर पानी में कैसे तेर ते थे? How does a stone float on water?


तो दरसअल इस तरह के पत्थर को Pumice पत्थर कहा जाता है। ये पत्थर लावा के solidification से पैदा होते है। ज्वालामुखी के पानी के अंदर या पानी के पास वाले इलाकों में फट नेसे उसका लावा जल्दी ठंडा पड़के पत्थर मे बदल जाता है जिस से उसमे कई तरह के गैस के bubble बन जाते है। जिस वजह से उस कि specific gravity पानी कि specific gravity से कम हो जाती है ओर ये पत्थर पानी ने फ्लोट करने लगते है।

पर इतनी बड़ी मात्रा में ये पत्थर इकट्ठे करना कि जिस से 30 km लबा पुल बन जाए ये इंपॉसिबल लगता है। चलो अगर कर भी लिया तो सभी पथर को एक साथ रखना इस से बड़ी चुनौती है क्यों कि समंदर का पानी स्थिर नहीं होता तो जरा सोचो बात 30 km लंबे पुल कि है उस केलिए केस पत्थर को जोड़ के रखा जाए।

इस के अलावा कुछ साल पहले डिस्कवरी कम्युनिकेशन के साइंस चैनल के ट्विटर हैंडल से एक वीडियो ट्वीट किया गया था। इस वीडियो मे बताई गई माहिती के अनुसार श्रीलंका के मन्नार टापू से भारत के पामबन टापू तक फैली पुलनुमा चैन  इंसानों ने बनाई है। क्योंकि रेत की इतनी लम्बी चदर के ऊपर जो पत्थर रखे हैं वो नेचुरल नहीं लगते, यानी उनको इंसानों ने रखा है अन के हिसाब से। ओर इन पत्थरों को सात हजार साल पुराना बताया गया है।

लेकिन यहां एक प्रॉब्लम है. पौराणिक कथा के अनुसार 5 हजार साल पहले द्वापर युग खत्म हुआ है. और द्वापर युग खुद ही 8 लाख 64 हजार साल चला था. ऐसा वेद, पुराण और उपनिषदों में लिखा है. रामसेतु तो भाई त्रेतायुग में बना क्योंकि राम उसी युग में थे. तो इस हिसाब से त्रेतायुग तो लाखों साल पुराना है. अगर पाच हजार साल के आसपास कि इस पुल की डिजाइन कुछ प्रॉब्लम है।

यहां पे में ये नहीं केता की राम सेतु exist नहीं कर है वो exiest करता है पर वो किसी floating stone से नहीं बल्कि tombolo से बना है एसा लगता है। जो बाद में sea level में changes आने के कारण टूट गई होगी। बाकी आप को क्या लगता है हमे कॉमेंट कर के जरूर बताई ये गा। ओर चैनल पे एक गीववे भी चल रहा है उसे पार्टी करने केलिए ये वाला विडियो जरूर देखे। तो चलो मिलते है, bye or जय हिन्द।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ