हमें नींद क्यों आती है?- Why do we sleep in hindi?

HAME NEED KYO AATI HE


दोस्तों रात के समय नीद आना आम बात है। सदियों से ये कहां जाता आ रहा है कि दिन में आप चाहे कितना काम करो लेकिन जब रात होतो अपने दिमाग को आराम देने केलिए सो जाओ। लेकिन क्या आप जानते हो की आपका दिमाग कभी आराम नहीं करता मतलब, आप चाहे कितने भी गंट सो जाओ लेकिन आप का दिमाग नहीं सो ता। काफी अजीब बात है, नहीं ना। पर अब प्रश्न ये उठता है कि तो फिर हमें सोना क्यों है। क्यों कोई इंसान अपनी जिंदगी के 26 साल अर्थात 9,490 दिन सोने में व्यर्थ करता है। आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि हमें सोना क्यों जरूरी है। और सोते समय हमारे साथ क्या-क्या होता है।

विषय-सूची।

हमें नींद क्यों आती है?- Why do we sleep?

हमें नींद की आवश्यकता क्यों है?- why do we need sleep?

आपको कितनी नींद की ज़रूरत होती है?-How Much Sleep Do You Need?

यदि पर्याप्त नींद नहीं लेते तो क्या होगा?- What if you don't get enough sleep?



  • हमें नींद क्यों आती है?- Why do we sleep?

नींद आना एक स्वाभाविक क्रिया है । जैसे हमें भोजन के बिना नहीं जी सकते। ठीक उसी तरह बिना सोए भी हम नहीं जी सकते। भोजन का तो हम एक बार समझ भी लेते है। लेकिन नीद का क्या कारण क्या हो सकता है। तो इस का सिम्पल सा फंडा है, अक्सर हम जब अंधेरे कमरे में होते सोते हैं। या फिर आप आखे बंद करके सोए रहे ते हो तब अंधेरे के कारण आपका मस्तिष्क मेलाटोनिन नामक एक रसायन रिलीज करता है, जो आपको सुला देता है। इसी लिए ही कहा जाता है कि आप जब सोए तब सारी लाइटें बंद करके सोए ताकि जल्दी नीद आजाय। ये लाइट से आ रहा प्रकाश आपके मस्तिष्क में मेलाटोनिन के स्त्राव को धीमा कर देता है, जिससे नींद आने की गति धीमी हो जाती है। यहां तक कि एक मोबाइल से आ रही लाइट भी इस प्रोसेस मैं बाधा डाल सकती है। हमारा दिमाग अचानक से जागृत अवस्था में से नींद में नहीं जाता। बली स्टेप बाय स्टेप 4 चरण से होकर गुजरता है।

चरण 1 non-REM sleep इस स्टेज में आपका शरीर हल्की नींद में प्रवेश करता है, आपके मस्तिष्क के तरंगो की गति, हृदय गति और आंखों की गति धीमी हो जाती है। यह चरण लगभग लगभग 7 मिनट तक रहता है।

चरण 2 non-REM sleep इस अवस्था में गहरी नींद से ठीक पहले की हल्की नींद शामिल है। आपके शरीर का तापमान कम हो जाता है, आपकी आंखें हिलना बंद हो जाती हैं। और आपकी हृदय गति और मांसपेशियों को आराम मिलता रहता है। इस चरण की शुरुआत में अचानक नींद आ जाती है लेकिन इस दौरान अचानक आँख खुल भी जाती है। रात में नींद की दौरान, आप स्टेज 2 में सबसे ज्यादा समय बिताते हैं।

चरण 3 और 4 चरणों में, गहरी नींद शुरू होती है। आपकी आंखें और मांसपेशियां नहीं चलती हैं, और आपकी मस्तिष्क की तरंगें और भी धीमी हो जाती हैं। गहरी नींद आराम देने वाली होती है। आपका शरीर अपनी एनर्जी को फिर से भरता है। और कोशिकाओं, तिस्सूज और मांसपेशियों की मरम्मत करता है। और फिर आप का शरीर REM sleep स्टेज में चला जाते हैं। आपके सो जाने के लगभग 90 मिनट बाद यह अवस्था आती है। और इस अवस्था में आप का दिमाग वापस अपने तरंगों कि गति बढ़ा देता है। और आप के द्वारा दिनमे किए गए काम को रिपीट कर उसे स्टोर करता है। सोर्टमे बोले तो आप का दिमाग आप के द्वारा किए गए काम का दोहराता है। और इस आप के हृदय की गति और श्वास की गति भी तेज हो जाती है।

मतलब आप सो रहे होते हो और आप का दिमाग तो जागता ही रहे ता है। तो फिर सोने कि क्या जरूरत है, जो काम आप का दिमाग आप के सोते हुवे करता है वो काम जागते हुवे भी कर ता है, बस स्पीड थोड़ी कम होती है। इस थोड़ी स्पीड केलिए जिंदगी के 25 साल ये तो नुकसानी का सौदा हुआ ना। और रही बात एनर्जी, कोशिकाओं, तिस्सूज और मांसपेशियों की मरम्मत की तो ये काम भी आप के जागते हुवे होता है बस कुछ ही परसेंट का फर्क होता है। तो फिर हमें सोने की क्या जरूरत है।

REM OR NON-REM DIFFERENCE

  • हमें नींद की आवश्यकता क्यों है?- why do we need sleep?

तो आप के इस सवाल का जवाब विज्ञान के पास भी नहीं है। लिकन हा ऐसे एक्सपेरिमेंट और थायोरिस जरूर है, जो काफी हद तक ये मानने पर मजबुर कर देगी कि आप को नीद की आवश्यकता क्यों है।

जैसे इंसान बिना नीद के जीवित नहीं रहे सकता वैसे जानवर भी बिना नीद के जीवित नहीं रहे सकते। सन् 1894 में रसियन चिकित्सक और वैज्ञानिक, मैरी डी मानेसिन (Marie de Manacéïne) ने अपने कुते पे एक एक्सपेरिमेंट किया था। उन्होंने अपने कुते की नीद की मात्रा में निरंतर बदलाव किया, जिस के नतीजन केवल कुछ ही दिनों में उनके डोग कि मृत्यु हो गई। कई सारे वैज्ञानिक ये एक्सपेरिमेंट खुद पे भी दौड़ते ही और ज्यादातर सभी के समान ही प्रभाव देखने को मिलते है। मानसिक कामकाज में कमी, उनके आसपास की दुनिया में जागरूकता और ध्यान की कमी, एक के बाद भावना, और अपार थकान।

ऐसे ही एक अमरीकन नागरिक रैंडी गार्डनर(Randy Gardner) जिन्होंने 17 वर्ष की उम्र में 11 दिन और 25 मिनट तक जाग के विश्व रिकॉर्ड बनाया था। एक्सपेरिमेंट के अंत में, उनका भाषण धीमा हो गया था, उनकी सोच खंडित हो गई थी, और वह सरल से सरल गणित के उत्तर देने में खुद को बेहत असमर्थ पाते थे।

नीद का पढ़ाई पर कितना असर पड़ता है, ये जान ने केलिए। दो समूह बनाए जिन मेसे पहले वाले समूह बह 9 बजे कुछ प्रश्न के उत्तर याद रखने को दिए गए। और ठीक 12 घंटे बाद 9 बजे उनकी एग्जाम लीगई। और दूसरी ओर समूह को वहीं प्रश्न के उत्तर रात को 9 बजे दिए गए और उनकी परीक्षा दूसरे दिन 9 बजे ली गई। इस एक्सपेरिमेंट में उन्होंने पाया कि जिन्होंने रातको आराम कर के उत्तर दिए वो कंपेर तो सुबह वालोके जवाब देने में ज्यादा सकसम थे। 

नीद के और भी फायदे होसकते है जिसके बारे में हम नहीं जानते होगे लेकिन लेकिन एक बात निश्चित है, हम इसके बिना जीवित नहीं रह सकते। 

  • आपको कितनी नींद की ज़रूरत होती है?-How Much Sleep Do You Need?

नींद की मात्रा आपकी उम्र पर निर्भर करती है। हर उम्र के कि नीद की मात्रा अलग अलग होती है। और तो और हर एक व्यक्ति की नीद की मात्रा भी उसिके उमर के व्यक्ति से अलग हो सकती है। लेकिन नेशनल स्लीप फ़ाउंडेशन सुझाव देता है।

3 महीने से ज्यादा : 14 से 17 घंटे
4 से 11 महीने: 12 से 15 घंटे
1 से 2 साल: 11 से 14 घंटे
3 से 5 साल: 10 से 13 घंटे
6 से 13 साल: 9 से 11 घंटे
14 से 17 साल: 8 से 10 घंटे
18 से 64 वर्ष: 7 से 9 घंटे
65 वर्ष और अधिक आयु: 7 से 8 घंटे

  • यदि पर्याप्त नींद नहीं लेते तो क्या होगा?- What if you don't get enough sleep?

अगर आप पर्याप्त नींद लेते तो, आप का शरीर को ठीक से काम करने केलिए साथ नहीं देगा। इतना ही नहीं अगर आप पर्याप्त नीद नहीं लेते तो इस के परिणाम नीचे मुताबिक हो सकते है।

• मूड ऑफ रहेना
• चिंता
• डिप्रेशन
• याद सकती कमजोर होना
• किसी चिजपर खराब फोकस और खराब एकाग्रता
• थकान
• इम्यून सिस्टम कमजोर होना
• वेट बढ़ना
• ब्लड प्रेशर बढ़ना
• जैसे मधुमेह, हृदय रोग ओर यहां तक कि कैंसर जैसी भयानक बिमारी भी हो सकती है।नीद हमें स्वस्थ अच्छी उम्र आपके शरीर और मस्तिष्क की मरम्मत, पुनर्स्थापना, और पुनर्जनन की सुविधा देता है।


यदि आप पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं, तो ऐसे में आप अपनी याद सकती कमजोर कर वा रहे हो और साथ में फ़ोकस, मूड भी खराब करवा रहे हो। ज्यादातर एडल्ट तो को प्रत्येक रात 7 से 9 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है।  यदि आपको रात में परेशानी हो रही है, तो आप अवश्य डॉक्टर से बात करें।

और अब अगर आप को हमारी पोस्ट पसंद आई हो तो अपने दोस्तो के साथ शेयर करना ताकि उनको भी नींद के महत्त्व के बारे में पता चले।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां